Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th

 यह कहानी बंलडस्स्टोन नामक जगह की है। जहाँ रुकरी नामक एक घर में डेविड काँपरफील्ड रहता है। इसके पूरे खानदान में एकलौता संबंधी है उसकी आन्ट, जिन्हे आन्ट बेट्सी ट्राँटउड के नाम से जाना जाता है।

आन्ट बेट्सी एक अविवाहित है जिसकी उम्र लगभग पचास वर्ष है, ये काफी शख्त महिला है।

Devid copperfield इनका सबसे चहेता भतिजा है, लेकिन वह आन्ट बेट्सी के चाहत से गिर जाता है, जब वह क्लेरा नाम की एक लड़की से शादी करने का फैसला करता है । 

क्लेरा बेहद खुबसुरत लेकिन अलीगढ़, अनारी, अज्ञानी और समाजीक सरोकारों से परे होती है ।आन्ट बेट्सी कभी भी नहीं चाहती है कि डेविड, क्लेरा जैसी एक लड़की से शादी करें, इसलिए जब डेविड काँपरफील्ड, क्लेरा से शादी कर लेता है, आन्ट बेट्सी उससे संबंध तोड़कर अपने घर डोभर चली जाती है ।

 

 

शादी के दो वर्ष बाद डेविड काँपरफील्ड का देहांत हो जाता है डेविड काँपरफील्ड के देहांत के छ: माह के बाद क्लेरा एक बच्चे को जन्म देती है ।

इस बच्चे के जन्म की रात एक बार फिर आन्ट बेट्सी इस घर का रुख करती है, इस उम्मीद में कि क्लेरा एक बेटी जन्म देगी ।आन्ट बेट्सी चाहती है कि वो क्लेरा को अपने पास रखे और उसका लालन – पालन करे, और उसे अच्छे संस्कार दे क्लेरा से इन चीजों की उम्मीद नहीं कि जा सकती है ।  
जैसे ही डाॅक्टर चिलीप के द्वारा ये बताया जाता है कि क्लेरा ने एक बेटी नहीं बल्कि एक बेटे को जन्म दिया जाता है, आन्ट बेट्सी गुस्से से यह घर छोड़कर बाहर चली जाती है और फिर वो कभी भी लौटकर बंलडस्स्टोन नहीं आती है ।
और इस तरह से जन्म होता है मास्टर डेविड काँपरफील्ड का, जिसकी कहानी हम आगे पढ़ते है ।  जब डेविड कि उम्र दस वर्ष होती है, इसकी माँ को ऐडवर्ड मर्डस्टोन नाम के एक व्यक्ति से प्रेम हो जाता है । वो उससे शादी करने का फैसला लेती है । डेविड को मर्डस्टोन एकदम नहीं भाता है ।
इस घर में एक नौकरानी होती है, जिसका नाम पेगटी है । इसकी उम्र लगभग तीस वर्ष होती है । पेगटी इस घर कि एक बहुत ही वफादार पुरानी नौकरानी है ।ये डेविड के पिता के समय से ही अपनी सेवा यहाँ दे रही है ।
Devid copperfield ki kahani in hindi 
वास्तव में पेगटी की डेविड को पाल – पोष कर बड़ा करती है । पेगटी के लाख समझाने पर भी क्लेरा, मर्डस्टोन से अपनी शादी करने के फैंसले पर अडिग रहती है । एक साजिश के तहत पेगटी और डेविड को पेगटी के गाँव यामथ पन्द्रह दिनों के लिए भेज दिया जाता है । यामथ, पेगटी का गाँव है, जो समुन्द्र का एक तट है ।
इस तट पर एक पुरानी नाव लगा दि गई है और यही पेगटी के घर के रूप में इस्तेमाल होती है ।  यहाँ रहते है पेगटी के बड़े भाई मिस्टर डैनिएल पेगटी जिनकी उम्र करीब चालीस वर्ष है । मिस्टर पेगटी एक बेहद नेक इंसान है ।  
ये अपने इस घर में तीन अनाथ लोगों को शरण दे रखे है ।इनमें से एक है इसके मित्र की विधवा मिसेज गमिज़ और दूसरा उनका अपना भाई का बेटा हैम और उनके अपने साले की बेटी लिटिल एमली ।  ये सभी मछुआरे है ।

Devid copperfield ki kahani in hindi

हैम, डेविड से उम्र में थोड़ा बड़ा होता है, लेकिन एमली,  डेविड की हम उम्र है। 
डेविड का यहाँ इन लोगों के साथ खेलते – कुदते और तरह – तरह की मछलियाँ खाते पन्द्रह दिन का समय हँसी – खुशी से बित जाता है ।
पन्द्रह दिनों के बाद, जब वह वापस पेगटी के साथ अपने घर पहुँचता है, मिस्टर मर्डस्टोन को अपने नये पिता के रुप में पाता है ।
मिस्टर मर्डस्टोन अपनी बहन मिस जेन मर्डस्टोन को भी इस घर में रहने के लिए ले आता है । दोनों भाई – बहन मिल कर इस घर कि सारी चीजों पर कब्जा जमा लेते है ।

मर्डस्टोन वेवजह डेविड को पिटा करता है । उसकी माँ भी मर्डस्टोन और उसकी बहन से काफी डरी – डरी रहती है ।

एक दिन वह डेविड को पिटते – पिटते अधमरा कर देता है और उसे एक कमरे में बन्द कर देता है । पाँच दिनों के बाद डेविड को इस कमरे से निकालकर उसे ब्लैकहीथ नाम के जगह ऐ आवासीय विद्यालय में भेज देता है ।
सलेम हाउस नाम का यह स्कुल, विद्यालय कम और अनाथालय ज्यादा दिखता है । इस स्कुल के प्रधानाध्यापक मिस्टर क्रैकल सभी बच्चो के प्रति काफी क्रुर व्यवहार अपनाते है ।
Devid को यह जगह अपने घर से बेहतर ही लगती है क्योकि घर पर मिस्टर और मिस मर्डस्टोन इसके ऊपर यहाँ से भी कहर ढाया करते है ।  इस विद्यालय में डेविड को दो अच्छे मित्र बनते है । एक टाँमी ट्रडल्स जो इसका हमउम्र और वर्ग साथी है ।  
दूसरा जेम्स स्टीयरफोर्थ जो पाँच वर्ष सिनियर है ।  स्टीयरफोर्थ पढ़ने में काफी विद्वान और देखने में काभी सुन्दर है ।  
मिस्टर क्रैकल कभी भी स्टीयरफोर्थ पर हाथ नहीं उठाते है क्योकि ऐसा माना जाता था कि स्टीयरफोर्थ का ज्ञान शायद मिस्टर क्रैकल से अधिक है।  स्टीयरफोर्थ डेविड को अपने शरण में ले लेता है और इससे अपने छोटे भाई जैसा व्यवहार करता है ।  
एक दिन स्कुल में मिस्टर पेगटी और हैम, डेविड से मिलने आते है।  डेविड इनलोगों की मुलकात स्टीयरफोर्थ से कराता है।  
डेविड इनलोगों से अनुमती माँगता है कि वो स्टीयरफोर्थ को भी कभी अपने साथ उनके घर यामथ लेकर आना चाहता है। मिस्टर पेगटी और हैम खुशी – खुशी उसे इसकी अनुमती दे देते है ।  छः महीने के बाद स्कुल की छुट्टियाँ होती है डेविड अपने घर आता है।
जिस वक्त डेविड घर पहुँचता है उस वक्त मिस्टर और मिस मर्डस्टोन घर पर नहीं होते है। डेविड को पता चलता है कि उसकी माँ ने एक बच्चे को जन्म दिया है।
डेविड कुछ पल अपनी माँ अपने इस छोटे भाई और पेगटी के साथ हँसी – खुशी से बिताता है। जैसे ही भाई – बहन पहुँचते है।  सभी डर के मारे अपने – अपने काम पर लग जाते है।  
डेविड का कमरा अब उसके माँ के कमरे से काफी दूर लगा दिया जाता है। डेविड अपने कमरे में और माँ अपने बच्चे के साथ अपने कमरे में चली जाती है। पेगटी रसोई घर का रूख कर लेती है ।

किसी तरह से डेविड अपने एक माह की छुट्टी काट लेता है और वापस सलेम हाउस चला जाता है।  

दो माह के बाद डेविड को खबर मिलती है कि उसकी माँ अब इस दुनिया में नहीं रही। डेविड, सलेम हाउस को हमेंशा के लिए छोड़कर अपने घर बंलडस्स्टोन आ जाता है। वहाँ पता चलता है कि उसका छोटा भाई भी नहीं रहा। वह अपनी माँ और भाई के राव को दफन करता है ।
Devid copperfield ki kahani
इसके बाद डेविड का ज्यादा वक्त पेगटी के साथ ही कटता है। एक दिन पेगटी बताती है कि मर्डस्टोन भाई – बहन ने उसको घर खाली करने का आदेश दिया है। डेविड यह खबर पाकर काफी विचलित हो जाता है ।
पेगटी, मर्डस्टोन भाई – बहन से अनुमती माँग लेती है कि कम से कम पन्द्रह दिनों के लिए वे लोग डेविड को भी उसके साथ उसके घर यामथ जाने की अनुमती दे दे ।  उसकी अनुमती मिल जाने पर पेगटी, डेविड को लेकर अपने गाँव यामथ आ जाती है ।  
इस पूरी कहानी में एक टाँगेवाले होते है, जिनका नाम है मिस्टर बारकीज जहाँ कही भी किसी को जाना होता है, मिस्टर बारकीज अपना टाँगा लेकर हाजिर हो जाते है ।
जब भी डेविड, बारकीज के इस टाँगे में आया – जाया करता है पेगटी उसे कुछ न कुछ खाने की चिजें दिया करती है।  
पेगटी के हाथ का बना हुआ खाना खा खाकर मिस्टर बारकीज को पेगटी से प्रेम हो जाता है। प्रेम – प्रसंग की इस कड़ी में डेविड काँपरफील्ड खुद शामिल होता है।  
जब पेगटी अपनी नौकरी छोड़कर यामथ आती है, वह मिस्टर बारकीज से शादी करती है। पेगटी, मिस्टर बारकीज से शादी करके ससुराल सफाँल्क नामक एक जगह चली जाती है ।
सफाॅल्क,  बंलडस्स्टोन और यामथ के बिच में पड़ता है। पेगटी, डेविड से कहती कि वो उसके सफाँल्क के घर को ही अपना घर समझे और उसे जब भी जरूरत पड़े वह यहाँ आ सकता है। पन्द्रह दिन बित जाने पर मिस्टर बारकीज, डेविड को उसके घर बंलडस्स्टोन छोड़ आते है।
अब ऐसा नहीं है कि मर्डस्टोन भाई – बहन डेविड को पिटा करते हैं लेकिन वे अब डेविड की कोई परवाह नहीं करते है। एक दिन मिस्टर मर्डस्टोन, डेविड से कहते है कि उसे अब अपनी रोजी रोटी कमाने के लिए काम शुरू करना है।
वे कहते है कि उसकी एक शराब फैक्ट्री लंदन के करीब बलैकफ्रायर्ज नाम की जगह पर है। उसकी इस फैक्ट्री के मैनेजर मिस्टर क्वीनीन के यहाँ पधारें हुए है और अगले दिन उसे उनके साथ जाना होना है।
Devid copperfield ki kahani in hindi में Next कहानी पढ़ने के लिए निचे दिये link par click kre.
Spread the love
Author: Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *