Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 2

Devid copperfield ki kahani

Devid copperfield ki kahani Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 2

 

 डेविड, क्वीनीन के साथ एक बहुत ही गंदी शराब फैक्ट्री में आ जाता है। जहाँ उसे जूठी बोतलो को धोने का और इनमें शराब भर दिये जाने के बाद उनपर लेबल चिपकाने का काम मिलता है। डेविड के आँसु उसी में मिल जाया करते है।जिस पानी में वो गंदी बोतले साफ करता है और भी दुसरे बच्चे यहाँ इस काम को करते है लेकिन डेविड कभी भी इस बच्चो से अपने दुःख – दर्द को नहीं बाँटता है।

 

लंदन में डेविड की रहने की व्यवस्था मिस्टर क्वीनीन, मिस्टर बिलकिन्स मिकरउबर के यहाँ करते है। मिस्टर मिकरउबर जो उम्र में करीब चालिस के है। वे अपनी पत्नी एमा मिकाउबर और तीन बच्चों के साथ नौकरी के तलाश में दर-दर भटक रहे है। ये बेहद नेक इंसान है, लेकिन वो बहुत गरीब और दरिद्र है। इन्ही के साथ डेविड पेइंग गेस्ट के रूप में रहता है। डेविड को सप्ताह में मात्र छः सीलिंग भूगतान होते है, जो चार या पाँच दिनों में ही खत्म हो जाते है। किसी तरह से भुखा रहकर डेविड अपनी जिन्दगी मिस्टर मिकाउबर के घर में बिताता है।

 

मिस्टर मिकाउबर के ऊपर कर्ज का आपार बोझ होता है। घर का आलम कुछ ऐसा है कि चम्मच बिकती है तो चाय बनती है और थाली बिकती है तो नास्ता ।  डेविड, मिकाउबर – परिवार का चहेता सदस्य बन जाता है।

मिकाउबर और उसका परिवार लाख कठिनाइयों के बावजूद भी हमेशा खुश रहना जानता है।  एक दिन मिस्टर मिकाउबर को कर्जखोरी के इल्जाम में गिरफ्तार हो जाते है। जब मिस्टर मिकाउबर जेल चले जाते है

मिसेज मिकाउबर भी घर का बाकी बचा सामान बेचकर अपने बच्चों के साथ जेल चली जाती है। जेल के बगल के बगल में ही डेविड को एक भाड़े के मकान में रहने की व्यवस्था कर दी जाती है। हर रविवार जेल में इसे परिवार के साथ हँसी-खुशी  से बिताया करता है।  एक दिन मिसेज मिकाउबर ने बनाया कि यह हमारा पहला तिर्थ नहीं है बल्कि पहले भी तिन-चार बार वे यहाँ भ्रमण कर चुके है। लेकिन इस बार उनके निकलने कि उम्मीद नहीं है। क्योकि पिछले साल उनके माता-पिता का देहांत हो गया।

 

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 2

एक दिन मिसेज मिकाउबर ने बताया कि उनके दूर के संबंधी अगले दिन आ रहे है और अब उनलोगों की रिहाई नजदीक है।  जब मिकाउबर – परिवार जेल से रिहा होकर गाँव चला जाता है डेविड काँपरफील्ड भी यह जगह छोड़कर भाग जाने का निर्णय कर लेते है।  वह पेगटी को खत लिखता है और उससे आन्ट बेट्सी का पता और कुछ पैसे माँगता है। पेगटी उसे पैसा भेजती है और सिर्फ इतना बत्ता पाती है कि आन्ट बेट्सी डोभर नामक किसी जगह पर रहती और इससे ज्यादा उसे कोई जानकारी नहीं है। डेविड,  डोभर जाने की कोच-कार्यालय पर अपना सामान पहुँचाने के लिए  टाँगा भाड़े पर करता है।  टाँगावाला उसके साथ धोखा करता है और डेविड का सामान और पैसे छिनकर भाग जाता है।

 

डेविड बगैर पैसे के हो जाता है। पाँच दिनों की पैदल यात्रा करते हुए अपने कोट और कपड़ो को बेचते हुए भुखा-प्यासा सड़कों पर सोते हुए भिखारी की अवस्था में वो डोभर पहुँचता है। काफी मशक्तर के बाद उसे आन्ट बेट्सी की नौकरानी जेनेट मिलती है जो उसे आन्ट बेट्सी के घर के सामने ला कर खड़ा कर देती है। आन्ट बेट्सी बागवानी करने के लिए जब अपने घर से बाहर निकलती है, डेविड हिम्मत जुटाकर उनके पास जाता है और अपनी कहानी को एक साँस में कुछ इस तरह से सुनाता है कि आन्ट बेट्सी को बातो पर भरोसा हो जाता है। वो उसे पकड़कर घर के अन्दर ले जाती है।

 

 

आन्ट बेट्सी अपने घर में एक पागल अनाथ व्यक्ति को शरण दे रखी है। जिनका वास्तविक नाम तो रिकार्ड बैबले लेकिन हमलोग उन्हे मिस्टर डिक के नाम से जानते है। इनकी उम्र करीब चालीस की है। मिस्टर डिक को जब उनके परिवार वाले अनाथालय में डाल रहे होते है, आन्ट बेट्सी हस्ताक्षेप करके उन्हे अपने पास इस उम्मीद में लेकर आती है कि वो पागल नहीं है। उनको अगर उनकी जिम्मेदारी का एहसास कराया जाय, वे ठीक हो सकते है। इसलिए आन्ट बेट्सी मिस्टर डिक को हमेशा जिम्मेदारी एहसास दिलाते रहने के लिए उनसे पुछकर ही अपने फैसले लिया करती है।

 

जब डेविड को लेकर वो घर में प्रवेश करती है, वो अपनी नौकरानी जेनेट से मिस्टर डिक को ऊपर मंजिल से निचे बुलवाने के लिए भेजती है। जब मिस्टर डिक नीचे आते है आन्ट बेट्सी उनसे मास्टर डेविड के बारे में करती है कि यह मेरे भतिजे डेविड का बेटा है।

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 

यह भागकर इस हाल में मेरे पास आया है और वो उनसे पुछती है कि उन्हे इसके साथ क्या करना चाहिए। मिस्टर डिक, डेविड की हालत देखकर हिचकिचाते है और फिर अपना सिना चौडा़ करते हुए जवाब देते है कि मास्टर डेविड को तुरन्त स्नान कराना चाहिए। आन्ट बेट्सी इनके इस फैसले को सुनकर काफी खुश होती है उनके सुझाव पर उन्हे धन्यवाद करती है और जेनेट को शीघ्र पानी गर्म करने के लिए आदेश करती है। डेविड को मिस्टर डिक के कपड़े में लपटकर सोफा पर लिटाया जाता है, जहाँ उसे नींद आ जाती है। जब डेविड जागता है।

 

आन्ट बेट्सी और मिस्टर डिक बैठकर उसकी पुरी कहानी सुनते है। कहानी सुन लेने के बाद फिर मिस्टर डिक से पुछती है कि अब उन्हे इसके साथ क्या करना चाहिए। मिस्टर डिक, डेविड को देखकर हिचकिचाते है और फिर अपना सिना चौडा़ करते हुए जवाब देते है कि मास्टर डेविड को तुरन्त सुलाया जाय। आन्ट बेट्सी उनके इस फैसले को सुनकर काफी खुश होती है उनके इस सुझाव पर उन्हे धन्यवाद करती है और जेनेट को शीघ्र विस्तर लगाने के लिए आदेश करती है।

 

अगली सुबह आन्ट बेट्सी डेविड से करती है कि मिस्टर और मिसेज मर्डस्टोन आने वाले है वो डेविड के बारे में उनसे बात करने के बाद फैसला लेगी। डेविड, आन्ट बेट्सी की इस बात को सुनकर घबरा जाता है। जब मिस्टर और मिसेज मर्डस्टोन आते है, आन्ट बेट्सी उन्हे जबरदस्त फटकार लगाकर घर से निकाल देती है, और उनलोगो को शीघ्र बंलडस्स्टोन का घर भी खाली करने के लिए करती है। आन्ट बेट्सी, डेविड पर मालिकाना हक लेती है और मिस्टर डिक से पुछती है कि अब उन्हे डेविड के साथ क्या करना चाहिए।

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 2

मिस्टर डिक सिना चौडा़ करके जवाब देते है कि डेविड को तुरन्त नये कपड़े सिलवाये जाने चाहिए। आन्ट बेट्सी, मिस्टर डिक के इस फैसले से  बहुत खुश होती है और उन्हे धन्यवाद देती है। आन्ट बेट्सी, डेविड काँपरफील्ड नाम बदलकर अब डेविड ट्रँटउड काँपरफील्ड कर देती है। संक्षिप्त में आन्ट बेट्सी अब उसे ट्रट कहकर संबोधित करती है। इस तरह से नये जगह पर,  नये के साथ नये कपड़ो में, नये अभिभावको के साथ, डेविड कि एक नये जिन्दगी की शुरुवात होती है।

Devid copperfield ki kahani

कुछ दिनों के बाद आन्ट बेट्सी डेविड से करती है कि वो चाहती है उसकी शिक्षा-दिशा एक अच्छे स्कुल में पूरे संस्कारो के साथ आगे हो। वो कैन्टरबरी नामक एक जगह पर लेकर जायेगी जहाँ डेविड कि पढ़ाई लिखाई होगी। अगले दिन वो डेविड को लेकर कैन्टरबरी में बेट्सी को एक मित्र मिस्टर वीकफिल्ड रहते है, जो पेशे से एक वकील है।

 

यहाँ डेविड का दाखिला डाॅक्टर स्ट्राॅग के स्कुल में कराया जाता है। चूकी स्कुल आवासिय नहीं है, डेविड कि रहने की व्यवस्था मिस्टर वीकफिल्ड के घर पर ही दि जाती है। मिस्टर वीकफिल्ड को एक बूरी आदत है कि वो काफी शराब पिते है। मिस्टर वीकफिल्ड कि एक बेटी है जिसका नाम एगनीज, डेविड कि हमउम्र है। एगनीज की माँ वही होती है, इसलिए वह पुरे घर और अपने माता – पिता का पुरा ख्याल रखती है। इस घर के निचले तल्ले पर मिस्टर वीकफिल्ड का कार्यालय होता है।

 

इस कार्यालय में किरानी के पद पर उरीया हिप नामक एक व्यक्ति काम कर रहा होता है।

उरीया हिप बहुत ही शातीर और चालाक किस्म का इंसान है। वह अन्दर ही अन्दर मिस्टर वीकफिल्ड की सारी जायदाद को अपने नाम करने की योजना पर काम कर रहा होता है। यहाँ तक की वो एगनीज, जो कि उम्र में उससे आधी है से शादी करने की योजना भी बनाता है। डेविड को इस सारी चीजों से कोई लेना-देना नहीं होता है।

Devid copperfield ki kahani in hindi आगे और पीछे पढ़ने के लिए link पर क्लिक करें।

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 1

  Or

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 3

Or

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 4

Spread the love
Author: Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *