Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 4

Devid copperfield ki kahani

Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th part 4 last

 

 मिस्टर पेगटी। एमली की तलाश में कई देशों में भटकने के बाद खाली हाथ लन्दन लौट आते है। फिलहाल लंदन में, वो एक रैन-बसेरे में रहते है। वो एक दिन डेविड से मिलते है और बताते है कि एमली इन्हे कही नहीं मिली।
आगे वो कहते है कि बगैर एमली के वो अपने समाज में वापस लौट नहीं सकते है। वो ये फैसला लेते है कि जब तक एमली मिल नहीं जाती है,  वो यही लंदन में रहेंगे। एमली की बचपन की एक सहेली होती है जिसका नाम मार्था ऐंडल होता है।

एमली फिलहाल लंदन में मार्था ऐंडल के पास रह रही है।

मार्था ऐंडल, डेविड और मिस्टर पेगटी की जासूसी करती है, यह जानने के लिए कि ये लोग एमली को अपनाने के लिए तलाश रहे है या फिर सजा देने के लिए। 

 

जब मार्था सुनिश्चित कर लेती है कि ये लोग वाकई एमली को अपनाने के लिए खोज रहे है, एक दिन वह मिस्टर पेगटी और डेविड को अपने घर ले जाकर एमली से मिला देती है एमली को लेकर मिस्टर पेगटी अपने रैन-बसेरे में आ जाता है।

अगले दिन मिस्टर पेगटी Devid से मिलते है और बताते है कि वो एमली की पुरी कहानी सुन चुके है। एमली और स्टीयरफोर्थ में काफी प्रेम था। ये दोनों एक साथ भागे थे और नेपल्स नामक जगह पर अपना घर भी बसा लिया था। कुछ दिनों में अनबन रहने लगी।
एक दिन एमली और स्टीयरफोर्थ घर से कहकर निकला कि वो दो दिन के बाद लौट आएगा। दो दिन के बाद, वह अपने नौकर से खबर भिजवाया कि वो अब कभी लौटकर नहीं आयेगा। एमली यह खबर पाकर आत्महत्या करने के लिए आगे बढ़ी। कुछ भले लोगों ने एमली को बचाकर लंदन कि बस में बिठा दिया।
Devid copperfield ki kahani in hindi
भगवान की दया से लंदन में इसे मार्था ऐंडल ने एमली को हमलोगो के यहाँ होने के बारे में बताया। एमली की सारी कहानी सुनने के बाद मिस्टर पेगटी की हिम्मत अब यामथ लौटने की नहीं होती है।
वो एमली को लेकर आँसाट्रलिया के एक तट पर मछुआरों की बस्ती में चले जाने का निर्णय लेते है। वहाँ एमली की नई जिंदगी की शुरुआत करना चाहते है। उनके साथ मिसेज थी जाने कि इच्छा रखती है।

 

 

एक दिन डोरा की दोनों बुआएँ आन्ट बेट्सी से मिलने के इच्छा जाहिर करती है।

ये आन्ट बेट्सी से मिलने के बाद डेविड और डोरा की शादी को अंतिम रूप देने की योजना बनाती है। डेविड से डोर की शादी हो जाती है। शादी के दो वर्ष बाद ही डोरा का एक बिमारी की वजह से देहांत हो जाता है। डेविड की जिंदगी विरान हो जाती है। एक दिन मिस्टर मिकाउबर का एक ही खत डेविड और टाँमी ट्रेडल दोनों को प्राप्त होता है।
मिसेज मिकाउबर इन लोगों को बताती है कि मिस्टर मिकाउबर अब पहले जैसे नहीं रहे। वो बच्चे को पिटते है और उनसे प्रेम-पूर्वक बात नहीं करते है शायद उन्हे अन्दर कोई कष्ट उनको खाया जा रहा है। मिसेज मिकाउबर, डेविड और टाँमी ट्रेडल से इस मामले में मदद माँगती है।
टाँमी ट्रेडल और डेविड मिकाउबर से मिलने कैन्टरबरी पहुँचते है। यहाँ ये लोग पाते है कि मिस्टर मिकाउबर, उरीया हिप की नौकरी करते है।
उरीया हीप, मिस्टर विकफिल्ड की जगह ले लिया।
टाँमी और डेविड मिकाउबर को घर से बाहर लाकर उनसे उरीया हीप के बारे में सवाल जवाब करते है। मिकाउबर गुस्से में उरीया हीप की सारी काली करतुतो का बयान करता है। मिस्टर मिकाउबर उरीया हीप के खिलाफ सारे सबुतो को इक्ट्ठा करने में टाँमी ट्रेडल की मदद करते है

 

उरीया हीप के खिलाफ एक कानूनी केस तैयार किया जाता है।

 

एक दिन Devid, टाँमी ट्रेडल, आन्ट बेट्सी और मिस्टर डिक एक साथ कैन्टरबरी पहुँचते है। उरीया हीप और एगनीज और उसके पिता के मौजूदगी में मिस्टर मिकाउबर, उरीया हीप कि सारी काली करतुतो का एक चिट्ठा पढ़ते है।
बीच-बीच में उरीया हीप उस चिट्ठे को लपकर फाड़ने का प्रयास करता है। मिस्टर मिकाउबर एक डंडे से उरीया हीप के हाथों पर प्रहार करते है, आन्ट बेट्सी भी गुस्से में उरीया हीप की काॅलर खीचकर दो-चार गुस्से जड़ देती है, क्योंकि उनका सारा धन मिस्टर विकफिल्ड नहीं बल्कि उरीया हीप हड़प्पा होता है। डेविड को बीच-बचाव करना पड़ता है।

अन्त में टाॅमी ट्रेडल जो एक बहुत बड़ा पेशेवर वकील बन चुका है, उरीया हीप को दो विकल्प देते है।

ऐसे कुछ कागजों पर हस्ताक्षर करके मिस्टर विकफिल्ड का एक-एक आना उनको वापस करना होगा नहीं तो उसे जेल की हवा खाने के लिए तैयार रहना होगा। उरीया हीप पहले तो नानुकूर करता है लेकिन फिर वह हस्ताक्षर करने को राजी हो जाता है।

 

इस तरह से आन्ट बेट्सी का पुरा धन उन्हे वापस मिल जाता है। आन्ट बेट्सी को मिस्टर मिकाउबर की गरीबी के बारे में पता चलता है। उनके पुरे परिवार के साथ आस्ट्रेलिया जाकर एक नई जिन्दगी की शुरुआत करने को कहती है।
आन्ट बेट्सी, मिस्टर मिकाउबर की सेवा से खुश होकर उसका पुरा खर्च खुद वहन करती है। इस तरह से मिस्टर मिकाउबर उसकी पत्नी, उसके तीन बच्चे और मिस्टर पेगटी, एमली और मिसेज गमीज सभी आस्ट्रेलिया के लिए एक पानी वाले जहाज से रवाना होते है।

एमली, Devid को हैम के लिए माफीनामा देती है।

डेविड, एमली की इस चिट्ठी को हैम को देने के लिए शीघ्र रवाना हो जाता है। जिस शाम को यामथ के लिए जाता है, समुन्द्र में एक बहुत बड़ा तुफान आ जाता है। यामथ पहुँचने पर डेविड की मुलाकात हैम से नहीं हो पाती है डेविड समुन्द्र तट पर मछुआरों की भीड़ में खड़ा होकर एक डुबते हुए जहाज का नजारा देख रहा होता है।
यह जहाज रेत में फँसा हुआ है इस पर सवार कुछ लोग बारी-बारी से लहरों की चपेट में आकर मर होते है। समुद्र की ऊँची लहरें ऊपर से पार कर जाती है। एक खम्भे पर लटके चार लोग दिख रहे है। तभी हैम की आवाज डेविड के कानों में पड़ती है वह लोगो से कह रहा होता है कि उसकी कमर पर एक रस्सी बाँधी जाय। वह उन लोगों को बचाने के लिए समुन्द्र में जायेगा।
हैम को लोग मना कर रहे होते है। तभी समुन्द्र की ऊँची लहर उस जहाज के ऊपर से फिर एक बार पार कर जाती है। अब खम्भे में लटका हुआ सिर्फ एक ही व्यक्ति को बचाने के लिए समुन्द्र में छलांग लगा देता है। जैसे ही वह उसके करीब पहुँचता है कि एक ऊँची लहर उन दोनों को बहाकर तट के किनारे फेंक देता है। हैम का मृत शरीर डेविड के पैरो पर आकर टकराता है।
वह हैम को मरा देखकर रो रहा होता है कि एक व्यक्ति उसे दूसरी तरफ आने का इशारा करता है। डेविड दूसरी तरफ पड़े उस मृत शरीर को देखता है तो पाता है कि यह स्टीयरफोर्थ है।
स्टीयरफोर्थ, एमली को छोड़ के भागने के बाद स्पेन के एक तट पर मछुआरों की बस्ती में बस गया था। यह स्पेन का जहाज था, जिसपर वो सवार था।
डेविड, हैम के मृत शरीर को एमली के माफीनामे के साथ दफन कर देता है। स्टीयरफोर्थ के मृत शरीर को उसकी माँ के पास हाइगेट पहुँचा देता है। इस सारी घटनाओं के बाद डेविड का जीवन एकदम उजाड़ हो जाता है। वह लंदन छोड़ने का निर्णय लेता है।

 

आन्ट बेट्सी का धन वापस मिल जाता है इसलिए वो मिस्टर डिक और पेगटी के साथ वापस डोभर चली जाती है। पेगटी, आन्ट बेट्सी को पुरानी नौकरानी होती है। वह एक बार फिर आन्ट बेट्सी की सेवा करने के अवसर को सौभाग्य समझती है। डेविड दो वर्ष तक फ्रांस, इटली, जर्मनी में भटकने के बाद अन्ततः सिटजरलैण्ड में रहने लगता है। यहाँ डेविड एक उपन्यास लिखता है, जो टाँमी ट्रेडल की मदद से लंदन में प्रकाशित होती है।
यह उपन्यास रातो-रात डेविड को एक बहुत चर्चित नाम बना देती है। डेविड आगे दूसरी और तीसरी उपन्यास लिखता है। तीनों उपन्यासे सुपरहिट रहती है। डेविड अब कोई छोटी मोटी हस्ती नहीं होता है जहाँ भी जाता है, उसकी ही चर्चा होती है। एक दिसम्बर के माह में क्रिसमस की छुट्टी में डेविड लंदन आता है वह टाँमी ट्रेडल एक रिहायसी इलाके में आलीशान बंगले में अपनी पत्नी सोफी के साथ रहता है। देर रात तक ये लोग अपने बचपन की यादो को ताजा करते है।
अगली दिन डेविड, डोभर के लिए रवाना हो जाता है।
डोभर पहुँचने पर आन्ट बेट्सी उसे कैन्टरबरी जाने को कहती है आन्ट बेट्सी बताती हैं कि मिस्टर विकफिल्ड बिमार चल रहे है और घर के एक हिस्से में एगनीज स्कूल चलाती है।

Devid copperfield ki kahani

डेविड इन दिनों एगनीज से मिलने कैन्टरबरी आया जाया करता है। एक दिन डेविड से एगनीज का हाथ पकड़कर उससे कहता है……

 

एगनीज मुझे तुम्हारी आँखो में दर्द दिखाई पड़ता है। यह क्या है? मैं भी तुम्हारी दर्द को बाँटना चाहता हूँ। एगनीज कहती है, यह दर्द बहुत पुराना है। यह दर्द मेरा अपना है और मेरा रहेगा। मैं यह तुम्हें नहीं बता सकती हूँ। डेविड जिद करके एगनीज से इस बात को जानना चाहता है।
एगनीज कहती है, डेविड मैं तुम्हें उस दिन से प्रेम करती हूँ जब से तुम इस घर में रहने आये थे। डेविड जब एगनीज के इस गहरे प्रेम को जानता है उसे भी एगनीज के प्रति प्रेम भाव जागता है और आन्ट बेट्सी के सादे माहौल में डेविड और  एगनीज की शादी की व्यवस्था कर देती है। शादी के बाद एगनीज, डेविड से कहती हैं।
डेविड, एक राज कि बात है जो मैं तुम्हें आज बताना चाहती हूँ। डेविड कहता है, क्या बात है?

 

एगनीज बोलती है, जिस दिन डोरा का देहांत हुआ था उस दिन तुम, मुझे लेने आये थे और मेरी डोरा से बंद कमरे में कुछ बाते हुई थी।

 

डेविड कहता है डोरा ने बहुत जिद करके तुमको बुलवाया था।

 

एगनीज बोलती है डोरा ने मुझसे कहा था कि उसकी इस खाली जगह को सिर्फ मैं भरु।

 

डोरा का यह सपना आज पुरा हो गया।

 

डेविड और एगनीज गले लगकर रोते हैं और आकाश की तरफ देखते है तो उन्हें डोरा का चेहरा नजर आता है। और इस तरह से कहानी खत्म हो जाती है।

 

THE END
Devid copperfield ki kahani in hindi bihar board 12th समाप्त हो गया अगर आप पिछले पाठ पढ़ना चाहते हैं तो आप निचे दिये  link par click कर जा सकते हैं।
Spread the love
Author: Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *