काबिलियत क्या है और कैसे पहचाने the power of ability motivation

समय
काबिलियत क्या है इसके बारे में जानेगें।
काबिलियत यानि ability एक प्रकार की शक्ति ही है।
हम सभी के पास कुछ न कुछ गुण होता है। जिससे हम अनजान होते हैं। जिसे हमे पता ही नहीं होता है कि हम में  क्या काबिलियत है। जिसके कारण हम अपने आप को छोटा महसूस करते हैं। और अपने आपको हमेशा कोशते हैं कि मैं बिना काम का आदमी हुँ।
मेरे जीने का कोई मतलब नहीं है। लेकिन ऐसा नहीं है हम सभी किसी चीज़ के लिए बने हैं वरना उपरवाला हमें बनाता ही क्यों? 

हम अपनी काबिलियत को एक story के द्धारा जानने का प्रयास करेगे।

किसी जंगल में एक बहुत बड़ा तालाब था। तालाब के पास एक बागीचा था, जिसमे अनेक प्रकार के पेड़ पौधे लगे थे।
दूर – दूर से लोग वहाँ आते और बागीचे की तारीफ करते।
गुलाब के पेड़ पे लगा पत्ता हर रोज लोगों को आते – जाते और फूलों की तारीफ करते देखता, उसे लगता की हो सकता है कि एक दिन कोई उसकी भी तारीफ करे।
पर जब काफी दिन बीत जाने के बाद भी किसी ने उसकी तारीफ नहीं की तो वो काफी हीन महसूस करने लगा। उसके अन्दर तरह – तरह के विचार आने लगे सभी लोग गुलाब और अन्य फूलों की तारीफ करते नहीं थकते पर मुझे कोई देखता तक नहीं, शायद मेरा जीवन किसी काम का नहीं, कहाँ ये खूबसूरत फूल और कहाँ मैं और ऐसे विचार सोच कर वो पत्ता काफी उदास रहने लगा।
दिन यूँही बीत रहे थे कि एक दिन जंगल में बड़ी जोर – जोर से हवा चलने लगी और देखते – देखते उसने आंधी का रुप ले लिया।
बागीचे के पेड़ – पौधे तहस – नहस होने लगे, देखते – देखते सभी फूल ज़मीन पर गिर कर निढाल हो गए, पत्ता भी अपनी शाख से अलग हो गया और उड़ते – उड़ते तालाब में जा गिरा।
पत्ते ने देखा कि उससे कुछ ही दूर पर कहीं से एक चींटी हवा के झोंको की वजह से तालाब में आ गिरी थी
और अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष कर रही थी। 
चींटी प्रयास करते – करते काफी थक चुकी थी। और उसे अपनी मृत्यु तय लग रही थी।
कि तभी पत्ते ने उसे आवाज़ दी, घबराओ नहीं, आओ, मैं तुम्हारी मदद कर देता हूँ और ऐसा कहते हुए अपनी उपर बैठा लिया।
आंधी रूकते – रूकते पत्ता तालाब के एक छोर पर पहुँचा; चींटी किनारे पर पहुँच कर बहुत खुश हो गयी और बोली, आपने आज मेरी जान बचा कर बहुत बड़ा उपकार किया है, सचमुच आप महान हैं, आपका बहुत – बहुत धन्यवाद!
यह सुनकर पत्ता भावुक हो गया और बोला, धन्यवाद तो मुझे करना चाहिए, क्योंकि तुम्हारी वजह से आज पहली बार मेरा सामना मेरी काबिलियत से हुआ, जिससे मैं आज तक अनजान था।
काबिलियत
आज पहली बार मैंने अपने जीवन के मकसद और अपनी ताकत को पहचान पाया हूँ। 
मित्रों, ईश्वर ने हम सभी को अनोखी शक्तियां दी हैं; कई बार हम खुद अपनी काबिलियत से अनजान होते हैं और समय आने पर हमें इसका पता चलता है, हमें इस बात को समझना चाहिए कि किसी एक काम में असफल होने का मतलब हमेशा के लिए अयोग्य होना नही है।
खुद की काबिलियत को पहचान कर आप वह काम कर सकते हैं, जो आज तक किसी ने नही किया है। और ना कभी किसी ने किया होगा। 
आप दुनिया में सबसे अलग हो।
Your are the best of whole world. 
Spread the love
Author: Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *